Tree Topology

Tree Topology क्या है? लाभ, हानि व् सम्पूर्ण जानकारी

क्या आपको Tree Topology के सभी विषयों का ज्ञान है यदि नहीं तो आइए इस आर्टिकल के माध्यम से ट्री टोपोलॉजी से संबंधित और भी कुछ विषयों पर बात करते हैं क्योंकि यह एकमात्र ऐसे टोपोलॉजी है जो दो टोपोलॉजी नेटवर्क से बनता है आइए जानते हैं वे किस प्रकार और क्यों ट्री ट्रॉफोलॉजी का निर्माण करते हैं।

Tree Topology क्या है ?

ट्री टोपोलॉजी एकमात्र ऐसी टोपोलॉजी है जिसे दो टोपोलॉजी के नाम से जाना जाता है।

बस टोपोलॉजी तथा स्टार टोपोलॉजी क्योंकि ट्री टोपोलॉजी का निर्माण इन दोनों टोपोलॉजी से होता है ट्री टोपोलॉजी में नोड्स एक दूसरे से कनेक्ट होने पर एक तस्वीर बनाता है जो दिखने में पेड़ की भांति होती है जिस कारण इसे ट्री टोपोलॉजी के नाम ट्री टोपोलॉजी से संबोधित किया जाता है|

ट्री टोपोलॉजी अन्य टोपोलॉजी के मुकाबले बहुत ही सरल होता है जिस कारण ट्री टोपोलॉजी का उपयोग विभिन्न नेटवर्क में निम्न रूप से इस्तेमाल किया जाता है उदाहरण के लिए-

  • STAR – BUS HIERARCHY,
  • PARENT – CHILD HIERARCHY,
  • STAR – BUS WITH SINGLE NOD आदि।

1. स्टार-बस हायरार्की-

स्टार-बस हायरार्की शब्द का निर्माण बस और स्टार टोपोलॉजी से हुआ है क्योंकि स्टार टोपोलॉजी और बस टोपोलॉजी का मिश्रण है स्टार-बस हायरार्की है इसकी सहायता से स्टार टोपोलॉजी और बस टोपोलॉजी से का कनेक्शन संभव होता हैं इस कारण इसे हम स्टार-बस हायरार्की कहते हैं।

2. पैरंट चाइल्ड हायराकी-

इस नेटवर्क का नाम पैरंट चाइल्ड हायराकी इसलिए है क्योंकि इस नेटवर्क का कनेक्शन एक प्रमुख नोडस माध्यम से होता है जिसे पैरंट कहते हैं जो सभी नोट्स को खुद से कनेक्ट करता है इन्हें चाइल्ड कहा जाता है जिस कारण इस नेटवर्क का नाम पैरंट चाइल्ड हाय राखी है।

3 – स्टार- बस सिंगल नोडस-

सिंगल नेटवर्क में स्टार टोपोलॉजी को बस टोपोलॉजी के संपर्क में लाया जाता है क्योंकि बस टोपोलॉजी तो अन्य नोडस को जोड़ता है।

ट्री टोपोलॉजी के लाभ-

  • ट्री टोपोलॉजी का रख-रखाव बहुत ही सरल होता है क्योंकि यह कई भाग में बटें होते हैं।
  • इसमें होने वाली गलतियों का आसानी से पता लगाया जा सकता है।
  • एक नोड्स की क्षती होने पर पूरी नेटवर्क लाइन काम करना बंद नहीं करती।
  • याह स्टार टोपोलॉजी और बस टोपोलॉजी का मिश्रण है जिसके कारण इनकी अपनी-अपनी विशेषताएं होती है।
  • Tree Topology में डाटा ट्रांसफर की गति तीव्र होती है।
  • ट्री टोपोलॉजी एक साथ कई इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस को जोड़ता है जिससे कम नेटवर्क की खपत होती है।

ट्री टोपोलॉजी के नुकसान:

  • एक मात्रा में केवल का इस्तेमाल जिससे ट्रैफिक की संभावना होती है।
  • सेगमेंट की लंबाई का सीमित होना।
  • इस टोपोलॉजी में नोट्स की अधिक मात्रा डाटा ट्रांसफर करने की गति पर असर डालता है।
  • नेटवर्क बहुत ही खर्चीला होता है इसके रखरखाव तथा निर्मित करने के संदर्भ में।
  • ट्री टोपोलॉजी नेटवर्क पर नियंत्रण पाना बहुत ही मुश्किल होता है क्योंकि इसमें बहुत सारे नोडस का कनेक्शन है।

इन्हे भी पढ़ें :

अंतिम शब्द :

आशा करता हूँ की मेरे द्वारा उपलब्ध कराई गई  Tree Topology की संपूर्ण जानकारी आपको टोपोलॉजी नेटवर्क में नेटवर्क का इस्तेमाल करने में सहायता प्रदान करेगी।

धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published.